सरसों के तेल के 8 फायदे और नुकसान - Mustard Oil (Sarso Ka Tel) Benefits and Side Effects

      Health Benefits of Mustard Oil in Hindi

mustard oil benefits in cooking

सरसों की उत्पत्ति भारत में होती है। इसके बीजों से तेल निकलता है। सरसों से तेल  बनता है। इसकी कली पत्ते जड़ तना सभी उपयोग में आते हैं। सरसों पीली, भूरे  लाल  पाई जाती है। हमें सरसों के तेल का ही इस्तेमाल करना चाहिए। हम लोग घर के किचन (mustard oil for cooking) में तो सरसों का तेल इस्तेमाल करते है। उसके अलावा भी सरसों का तेल बहुत तरीके से हमें फायदा करता है |  

 Topic -

      .   सरसों का तेल क्या है ? - What is Mustard Oil in Hindi 

            .   सरसों के तेल के फायदे - Benefits of Mustard Oil

      .   सरसों के तेल के नुकसान -  Side Effects of Mustard Oil 


  सरसों का तेल क्या है ? - What is Mustard Oil in Hindi 


सरसों के तेल को सरसो के पौधा से निकला जाता है इसका वैजानिक नाम ब्रेसिका जुनसा है सरसो के बीज भूरे, लाल और पीले रंग के होते है | मशीनो की मदद से इसमें से तेल निकला जाता है |  डाइजेशन सिस्टम के लिए ठीक है। आपकी जीवन शक्ति को बढ़ाने के लिए ठीक है और सरसों का तेल आपको भरपूर लाभ देता है। आपके जीवन के लिए सरसों का तेल सिर्फ़ एक खाद्यान्न नहीं है। यह सरसों वास्तव में एक औषधीय गुणों से भरपूर यह औषधीय पौधा है।  पूरे भारत में सरसों के गुण से हम परिचित है। हमे औषधि के रूप में सरसों के तेल का प्रयोग ज़रूर शुरू करना चाहिए


      सरसों के तेल के फायदे - Benefits of Mustard Oil


 1.  बालों के लिए - 

बालों से सम्बंधित कोई भी समस्या है तो सबसे अच्छा तेल सरसों का तेल है जो कि हमारे बालों के झड़ने की प्रॉब्लम को भी सही करता है और बालों की ग्रोथ भी करता है। सरसों का तेल अपने सिर पर लगाना चाहिए ऐसा जब मैंने करके देखा तो वाकई ही पाया की सरसों का तेल (sarso oil) हमारे बालों के लिए अच्छा है अगर आप अपने बालों को स्वस्थ रखना चाहते हैं। आपके बालों (mustard oil for hair) में झड़ने की प्रॉब्लम है या फिर डैंड्रफ है तो इन सभी चीज में आप लोग सरसों का तेल अपने बालों के ऊपर लगाना शुरु कीजिए। इसमें थोड़ी स्मेल आती है, लेकिन आप इसको रात को लगा कर सो सकते हैं और सुबह आप शैंपू कर सकते हैं। इससे भी आपको सरसों का तेल बहुत फायदा करेगा।


 2. होठो के लिए -

 अगर आपके होंठ फटते हैं तो ऐसे में सरसों का तेल फायदेमंद है। सरसों के तेल को अगर हम अपनी नाभि में लगाते हैं तो इससे होंठ फटने की प्रॉब्लम ख़त्म हो जाती है। सर्दियों के समय में जिन लोगों के होंठ ज्यादा फटते है। उनको रात को अपनी नाभि में दो बूंद सरसों के तेल के लगा कर सोना चाहिए। ऐसे में आपको होंठ फटने की प्रॉब्लम कभी नहीं आएगी।


3. दांतो के लिए -

 सरसों के तेल से अगर आप ब्रश करेंगे तो इससे आपके दांत मज़बूत भी होंगे और दांतो का पीलापन भी दूर होगा। आपको बस दो चीजों का इस्तेमाल करना है। एक तो सरसों का तेल और दूसरा उसमें थोड़ा-सा नमक मिलाना है। दोनों को मिलाकर अगर हम अपने दांतो के ऊपर लगाते हैं तो इससे हमारे दांत मज़बूत भी होते हैं और दांतो का पीलापन भी दूर होता है |


 4. शारीरिक कमजोरी दूर करे -

अगर आपको कभी भी कमजोरी महसूस होती है और आपका शरीर थका हुआ रहता है तो आपको सरसों के तेल की मालिश अपने पूरे शरीर के ऊपर करनी चाहिए। सरसों के तेल को थोड़ा गर्म करके उसे अपने शरीर पर लगाएँ।  अपने शरीर पर 10 मिनट उस से मालिश करें। इससे हमारी मांसपेशियों और हड्डियों में मजबूती होती हैं और शरीर में चुस्ती फुर्ती आती है |  


 5. कैंसर के लिए -

सरसों का तेल हमें  कैंसर को पैदा करने वाले गुणों के लिए बचाता है. क्योंकि सरसों के तेल में ग्लूकोसिनोलेट नामक तत्व होता है, जो एंटी-कार्सिनजेनिक गुणों के लिए जाना जाता है और कैंसर को शरीर में बनने से रोकता है.सरसों के तेल से आप अपनी किसी भी तरह की सूजन को कम कर सकते हैं | 


 6. गठिया और जोड़ों के दर्द के लिए -

 सरसों के तेल(mustard oil) की मालिश करने से जोड़ों का दर्द (mustard oil for pain) ठीक होता है। सरसों के तेल में कपूर डालकर मालिश करने से गठिया के दर्द में लाभ होता है।


 7. कान दर्द के लिए -

कान में कुनकुना सरसों का तेल(sarso ka tel) डालने से मैंल खुलकर बाहर आ जाता है तथा कान का दर्द ठीक हो जाता है।


 8. त्वचा के लिए -


mustard oil benefits for skin


सरसों का तेल बेसन हल्दी दही मिलाकर लगाने से त्वचा (mustard oil benefits for skin) निखर जाती है। सरसों के दाने दूध में उबालकर पीसकर लगाने से भी रंग निखरता है | 


  सरसों के तेल के नुकसान -  Side Effects of Mustard Oil 

  1.   अगर आप किसी भी तरह से सरसों के तेल का ज्यादा सेवन करना शुरू कर देते हैं तो इससे आपके शरीर में  राइनाइटिस हो सकता है जिसमें बलग़म की झिल्ली में सूजन हो जाती है. खांसना, छींकना, भरी हुई नाक, नाक से पानी बहाना आदि.समस्याएं आपको हो सकती है. तो यह समस्या अगर आपको सरसों के तेल के इस्तेमाल करने से दिखती है. तो आप इसका सेवन तुरंत बंद कर दें | 

 2.   कई लोगों को सरसों के तेल से एलर्जी होनी शुरू हो जाती है. तो यदि आप को  भी इस तरह की एलर्जी होती है. तो आप इसका सेवन बंद कर दें और इससे आपकी त्वचा पर लालिमा खुजली और त्वचा का सूखापन जैसे लक्षण पाए जाते हैं | 


2 Comments

If you have any doubts, please let me know

Post a Comment

If you have any doubts, please let me know